Poem on Sun in Hindi. सूरज पर कविता हिंदी में

इस पोस्ट पर बच्चों के लिए सूरज पर कविता (Sun Poem in Hindi) लेकर आएं हैं। सूरज जो समस्त ब्रम्हांड का ऊर्जा का स्रोत है, और हिन्दू समेत कई धर्मों में भगवान के रूप में भी पूजा जाता है।

सूरज पर कविता हिंदी में (Sun Poem in Hindi)

हम आपको यहां सूरज पर 5 कविताएं (5 Sun Poems in Hindi) प्रोवाइड कर रहे हैं। आइए पढ़िये ये 5 कविताएं।

Sun Poem in Hindi: सूरज पर कविता

सूरज आया, भोर हुई।
नभ में छाया, सबके मन को भाया॥

चिड़ियों ने चह-चाह कर,
मुर्गो ने कुक की बांग देकर
भानु के स्वागत में गीत गाए।

अंधियारा दूर हो गया।
नभ में छा गया उजियारा॥

सोने वाले सब उठ गए।
किसी ने नमन किया,
तो किसी ने ली अंगड़ाई॥

तितलियों ने भरी बागो में उड़ान,
भंवरों ने भी घु-घु की तान बजाई,
मधुमक्खियों ने किया फूलों का रसपान॥

शाम हुई तो नभ में छोड़ गया लाली।
माँ, न जाने कहां छुप गया॥

सूरज आया, भोर हुई।
नभ में छाया, सबके मन को भाया॥

सूरज से हम करते हैं प्यार,
इसमें है ऊर्जा अपार,
रौशनी का यह है भण्डार।
सूरज है सौरमंडल का तारा,
लगता है हमको प्यारा,
दिन रात भी यही देता है,
हमसे कुछ नहीं लेता है।

सूरज की छोटी कविता- Short, Sun Poem in Hindi

सूरज निकला मिटा अंधेरा,
देखो बच्चों हुआ सवेरा।
आया मीठी हवा का फेरा,
चिड़ियों ने फिर छोड़ा बसेरा। जागो बच्चों अब मत सोओ,
इतना सुन्दर समय न खोओ।

सूरज पर कविता हिंदी में- Poem on Sun in Hindi

रोज सुबह को सूरज आकर,
सबको सदा जगाता है।
शाम हुई लाली फैलाकर,
अपने घर को जाता है।
दिनभर खुद को जला-जलाकर,
यह प्रकाश फैलाता है।
उसका जीना ही जीना है,
जो काम सभी के आता है।

सूरज पर कविता इन हिंदी- Hindi Poem on Sun

Sun Poem in Hindi– सूरज पर कविता

सूरज का गोला
इसके पहले ही कि निकलता
चुपके से बोला, हमसे – तुमसे, इससे – उससे
कितनी चीजों से
चिडियों से पत्तों से
फूलो – फल से, बीजों से-
“मेरे साथ – साथ सब निकलो
घने अंधेरे से
कब जागोगे, अगर न जागे, मेरे टेरे से?”
आगे बढकर आसमान ने
अपना पट खोला
इसके पहले ही कि निकलता
सूरज का गोला
फिर तो जाने कितनी बातें हुईं
कौन गिन सके इतनी बातें हुईं
पंछी चहके कलियां चटकी
डाल – डाल चमगादड लटकी
गांव – गली में शोर मच गया
जंगल – जंगल मोर नच गया
जितनी फैली खुशियां
उससे किरनें ज्यादा फैलीं
ज्यादा रंग घोला
और उभर कर ऊपर आया
सूरज का गोला
सबने उसकी आगवानी में
अपना पर खोला ।

Sun Poem in Hindi: सूरज पर कविता

सबसे तेज वाला आग का एक बड़ा गोला है।
इससे जन जीवन है।
वरना धरती बर्फ का गोला है॥

इससे मिलती है ऊर्जा,
इससे मिलती है प्रेरणा,
इसको मानते हैं देवता,
इसकी होती है अर्चना॥

हमारे शौर मंडल का सबसे बड़ा तारा।
हाँ, ये तो है सूरज हमारा॥

तो दोस्तों यह थी सूरज पर 5 कविताएं (5, Sun Poem in Hindi)। अगर आपको यह कविता पसन्द आयी हो तो शेयर करिए।

Poem on River in Hindi
मैं नदी हूँ कविता
गणतंत्र दिवस पर कविता।

Leave a Comment