आइए जलते हैं – डॉ चंद्रेश कुमार छतलानी

आइए जलते हैं, डॉ चंद्रेश कुमार छतलानी द्वारा लिखी गई एक कविता है। डॉ छतलानी जी ने प्रतिलिपि लघुकथा सम्मान 2018, ब्लॉगर ऑफ़ द ईयर 2019 सहित कई अन्य सम्मान प्राप्त किये हैं। इस कविता के माध्यम से डॉ छतलानी जी ने “कब जला जाए और कब नहीं” बताने का प्रयास किया है। केवल दीपक ही नहीं …

Read moreआइए जलते हैं – डॉ चंद्रेश कुमार छतलानी

मानव-मूल्य लघुकथा ― डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी

मानव-मूल्य डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी द्वारा रचित एक लघु कथा है। मानव-मूल्य लघुकथा में डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी जी ने गाँधी जी के तीन बंदरो को विकासवाद के तहद इंसानों के रूप में बताया है और इंसानो की प्रवृत्ति में व्यंग्य किया है। मानव-मूल्य लघुकथा :- वह चित्रकार अपनी सर्वश्रेष्ठ कृति को निहार रहा था। …

Read moreमानव-मूल्य लघुकथा ― डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी

डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी

नाम: डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानीशिक्षा: पीएच.डी. (कंप्यूटर विज्ञान) सम्प्रति: सहायक आचार्य (कंप्यूटर विज्ञान)सम्पर्क फ़ोन: 9928544749ईमेल: chandresh.chhatlani@gmail.comडाक का पता: 3 प 46, प्रभात नगर, सेक्टर-5, हिरण मगरी, उदयपुर (राजस्थान) – 313 002URL: http://chandreshkumar.wikifoundry.comब्लॉग: http://laghukathaduniya.blogspot.in/ साहीत्यिक सम्मान: प्रतिलिपि लघुकथा सम्मान 2018, ब्लॉगर ऑफ़ द ईयर 2019 सहित कई अन्य सम्मान प्राप्त। लेखन: लघुकथा, कविता, ग़ज़ल, गीत, कहानियाँ, बालकथा, बोधकथा, लेख, पत्र। …

Read moreडॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी

मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनके बारे में कुछ रोचक तथ्य

मुंशी प्रेमचंद एक भारतीय लेखक थे जो अपने आधुनिक हिंदी-उर्दू साहित्य के लिए प्रसिद्ध थे और हमारे देश के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे और उन्हें 20 वीं शताब्दी के शुरुआती दौर के हिंदी लेखकों में से एक माना जाता है। एक उपन्यास लेखक, कहानीकार और नाटककार होने के नाते, उन्हें लेखकों द्वारा …

Read moreमुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उनके बारे में कुछ रोचक तथ्य

जुर्माना – प्रेमचंद

प्रेमचंद की कहानी – जुर्माना ऐसा शायद ही कोई महीना जाता कि अलारक्खी के वेतन से कुछ जुरमाना न कट जाता। कभी-कभी तो उसे ६) के ५) ही मिलते, लेकिन वह सब कुछ सहकर भी सफाई के दारोग़ा मु० खैरात अली खाँ के चंगुल में कभी न आती। खाँ साहब की मातहती में सैकड़ों मेहतरानियाँ …

Read moreजुर्माना – प्रेमचंद

कफन – मुंशी प्रेमचंद की कहानी

कफन मुंशी प्रेमचंद जी द्वारा रचित आखिरी कहानी है। यह कहानी मूल रूप से पहले उर्दू में लिखी गई थी कफन घीसू – माधव पिता पुत्र की एक भावात्मक कहानी है। मुंशी प्रेमचंद की आपको ये कहानी पढ़नी चाहिए। कफ़न कहानी का उद्देश्य। कफ़न कहानी का उद्देश्य क्या है। कफन कहानी की आलोचना। कफन कहानी …

Read moreकफन – मुंशी प्रेमचंद की कहानी

आहुति – प्रेमचंद

(1)प्रेमचंद की कहानी – आहुति आनन्द ने गद्देदार कुर्सी पर बैठकर सिगार जलाते हुए कहा-आज विशम्भर ने कैसी हिमाकत की! इम्तहान करीब है और आप आज वालण्टियर बन बैठे। कहीं पकड़ गये, तो इम्तहान से हाथ धोएँगे। मेरा तो खयाल है कि वजीफ़ा भी बन्द हो जाएगा। सामने दूसरे बेंच पर रूपमणि बैठी एक अखबार …

Read moreआहुति – प्रेमचंद

सियाह हाशिए – सआदत हसन मंटो

मंटो द्वारा लिखी गई सियाह हाशिये की कहानी भारत और पाकिस्तान विभाजन काल के समय हुई हिंसा के बारे में हैं। नीचे दी गई कहानियां जो की सियाह हाशिये से सम्बंधित हैं करामात (सियाह हाशिये) लूटा हुआ माल बरामद करने के लिए पुलिस ने छापे मारने शुरू किए। लोग डर के मारे लूटा हुआ माल …

Read moreसियाह हाशिए – सआदत हसन मंटो

बू – सआदत हसन मंटो

सआदत हसन मंटो जो की अपनी रचनाओ के कारण अपने जीवनकाल में हमेशा विवादों में हमेशा विवादों में रहें। लेकिन बाद में उनकी रचनाएँ प्रचलित भी हुयी। ‘बू’ सआदत हसन मंटो की सबसे चर्चित कहानियों में से एक है। बू बरसात के यही दिन थे. खिड़की के बाहर पीपल के पत्ते इसी तरह नहा रहे …

Read moreबू – सआदत हसन मंटो

ठंडा गोश्त – सआदत हसन मंटो

ठंडा गोश्त एक काल्पनिक लघु कहानी है जो सआदत हसन मंटो द्वारा लिखी गई है। पुस्तक को पहली बार मार्च 1950 में पाकिस्तान में एक साहित्यिक पत्रिका में प्रकाशित किया गया था। बाद में इसे संग-ए-प्रकाशन प्रकाशन ने प्रकाशित किया। मंटो पर इस कहानी के लिए अश्लीलता का आरोप लगाया गया और आपराधिक अदालत में …

Read moreठंडा गोश्त – सआदत हसन मंटो