अधिगम का अर्थ। अधिगम का क्या अर्थ है, इससे आप क्या समझते हैं ?

शेयर करें

अधिगम एक ऐसी प्रक्रिया है, जो पूरी तरह से मनोविज्ञान पर आधारित है। बाल विकास और शिक्षाशास्त्र के क्षेत्र में अधिगम का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है।

HindiKiBaat की इस पोस्ट में हम आपको अधिगम का अर्थ, अधिगम के अर्थ से आप क्या समझते हैं? अधिगम का क्या अर्थ है? आदि प्रश्नों को बहुत ही आसान भाषा में समझाने का प्रयास करेंगे।

उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप अधिगम का अर्थ क्या है? इस प्रश्न का बहुत ही आसानी से जवाब दे पाएंगे।

अधिगम का अर्थ :-

अगर बिल्कुल सरल शब्दों में कहें तो अधिगम का अर्थ है सीखना लेकिन अधिगम एक व्यापक प्रकिया है। क्योंकि अधिगम का अर्थ ही है, सीखना इसलिए बाल विकास के साथ-साथ शिक्षा के सभी स्वरूपों में अधिगम में का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है।

मनुष्य या फिर कोई अन्य जीव अपने जन्म के साथ ही अधिगम की प्रक्रिया की शुरुआत कर देता है और विभिन्न क्रियाकलापों के माध्यम से अधिगम को जारी रखता है।

बाल्यकाल में अधिगम का अर्थ और उदाहरण :-

वैसे तो पूरे जीवन काल में ही अधिगम अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है, लेकिन क्योंकि बाल्यकाल में सीखने की प्रक्रिया बहुत तेज होती है, इसलिए इसका बाल्यकाल में अधिगम का अर्थ और महत्व और बढ़ जाता है।

यहां हम आपको एक उदाहरण देकर बताएंगे की बाल काल में कोई शिशु कैसे अपने क्रियाकलापों से अधिगम की प्रक्रिया को जारी रखता या दूसरे शब्दों में सीखता रहता है।

उदाहरण के लिए जब किसी शिशु को आप पहली बार कोई तीखी मिर्च खिलाएंगे देंगे तो वह उसे खा लेगा लेकिन जब आप यही क्रिया अगली बार दोहराएंगे वह अपने पिछले अनुभवों से सीख कर यह जान चुका होगा कि इसे नहीं खाना है।

अधिगम के अर्थ को समझने के लिए यहां पर हम आपको एक और उदाहरण देकर समझाएंगे यदि किसी छोटे बालक को आप कोई गर्म वस्तु पकड़ने के लिए देंगे तो पहली बार में वह उसे पकड़ लेगा लेकिन यही क्रिया दोहराने पर वह उसे नहीं पकड़ेगा।

इस प्रकार हम या समझ सकते हैं कि मनुष्य अपने जीवन में की गई क्रियाओं से अनुभव प्राप्त करता है और अगली बार उसी क्रिया को करने के लिए और अच्छा करने का प्रयत्न करता है।

मनोविज्ञान विषय के अंतर्गत मनुष्य द्वारा किए जाने वाले काम और व्यवहार में प्रगतिशील परिवर्तन या परिमार्जन को ही अधिगम कहते हैं।

मनुष्य की प्रवृत्तियों के आधार पर अधिगम का अर्थ :-

व्यक्ति अपनी जन्मजात आदतों या प्रवृत्तियों के कारण विभिन्न प्रकार की क्रियाएं करता है, और जब वह अपनी इन क्रियाओं से संतुष्ट नहीं होता है तो वह अपने व्यवहार और क्रियाकलापों में परिवर्तन करके विभिन्न स्थितियों के साथ अपना समायोजन करने का प्रयत्न करता है।

और इसी प्रकार वो अपने पिछले अनुभवों से प्रतिकूल क्रियाकलापों को त्याग करके अपने व्यवहार में परिवर्तन करता रहता है। यही अधिगम का अर्थ है।

अधिगम के अर्थ से जुड़े हुए कुछ प्रश्न :-

उम्मीद है कि अब आपको अधिगम का अर्थ पूरी तरह से समझ आ चुका होगा अधिगम से जुड़े प्रश्न विभिन्न प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी होते हैं यहां पर हम कुछ अधिगम के अर्थ से जुड़े हुए प्रश्न दे रहे हैं जिससे आप अपना मूल्यांकन कर सकता है।

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न :-

प्रश्न :- अधिगम का क्या अर्थ है?
उत्तर :- सीखना
प्रश्न :- अधिगम एक प्रकार की _____ प्रक्रिया है।
उत्तर :- मनोवैज्ञानिक
प्रश्न :- अधिगम का अर्थ है?
A. बौद्धिक ज्ञान
B. व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास
C. बालकों को सिखाना
D. भाषा का ज्ञान
-: उत्तर देखें :-
(B) व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास
प्रश्न :- मनोविज्ञान की दृष्टि से सीखने की प्रक्रिया का क्या अर्थ है?
A. विषय वस्तु को रट लेना
B. व्यवहार में वांछित परिवर्तन आना
C. विषय वस्तु का ज्ञान होना
D. व्यवहार में सुधार
-: उत्तर देखें :-
(B) व्यवहार में वांछित परिवर्तन आना

लघुउत्तरीय प्रश्न :-

• अधिगम के अर्थ से आप क्या समझते हैं ?
• एक शिशु के क्रियाकलापों से आप अधिगम के अर्थ को किस प्रकार समझायेंगे ?
• अधिगम के अर्थ को उदाहरण सहित समझाईये?

उम्मीद है कि आपको हमारी वेबसाइट हिंदी की बात की यह पोस्ट अच्छी लगी होगी और आप अधिगम के अर्थ को अच्छी तरह समझ गये होंगे। इस विषय की अगली पोस्ट में हम आपको विभिन्न विद्वानों द्वारा दी गयी अधिगम की परिभाषा को बतायेंगे। यदि आपका कोई प्रश्न है तो आप कमेन्ट कर के पूँछ सकते हैं।


शेयर करें

Leave a Comment